साइक्लिंग से रहे सेहतमंद

शारीरिक फिटनेस को लेकर हमेशा यह उलझन रही है कि कौन सी गतिविधियां सुडौल और छरहरे बदन के लिए मददगार हैं। हममें से ज्यादातर लोग बाहर घूमने से परहेज करते हैं, क्योंकि हम अपनी अन्य समस्याओं को दूर करने पर ज्यादा समय बिताते हैं।



साइक्लिंग हममें से उन लोगों के लिए एक खास विकल्प है, जो जिम की चारदीवारी से अलग व्यायाम संबंधी अन्य गतिविधियों को पसंद नहीं करते हैं। साइकिल पर घूमना शारीरिक रूप से फायदेमंद हो सकता है। आप साइकिल के पैडल मार कर ही यह महसूस कर सकते हैं कि आप की मांसपेशियों में उत्तेजतना बढ़ी है।

शारीरिक गतिविधि एड्रेनलिन से संबद्ध है, जो आप को बेहद ताकतवर कसरत का मौका प्रदान करती है। यह आप को बाकी व्यायाम के लिए भी उत्साहित करती है। जिम की तुलना में जिन कारणों ने साइक्लिंग को अधिक प्रभावी बनाया है, वे मूलरूप से काफी सामान्य हैं। शरीर में सिर्फ एक मांसपेशी के व्यायाम के तहत आप को हमेशा दिल को तरजीह देनी चाहिए। इस का मतलब है दिल के लिए कसरत करना जिस से दिल संबंधी विभिन्न रोगों का जोखिम घटता है। महज एक स्वस्थ शरीर की तुलना में स्वस्थ दिल अधिक महत्वपूर्ण है।

ब्रिटिश मेडिकल ऐसोसिएशन के अनुसार, प्रति सप्ताह महज 32 किलोमीटर साइक्लिंग करने से दिल की कोरोनरी बीमारी के खतरे को 50त्न तक कम किया जा सकता है। एक अध्ययन में यह भी पता चला है कि जो व्यक्ति प्रति सप्ताह 32 किलोमीटर तक साइकिल चलाते हैं, उन्हें दिल की किसी बीमारी के होने की आशंका नहीं रहती है।

फायदे अनेक

साइक्लिंग का खास फायदा यह है कि इस का लाभ अबाधित तरीके से मिलता है और आप को इस का पता भी नहीं चलता। साइक्लिंग में महज पैडल मारने से ही आसान तरीके से आप की कसरत शुरू हो जाती है। इसे आराम से या उत्साहपूर्वक घुमाएं, दोनों ही मामलों में दिल की धड़कन बढ़ती है। इस से शरीर में प्रत्येक कोशिका के लिए ऑक्सीजनयुक्त रक्त का प्रवाह बढ़ता है, दिल और फेफड़े मजबूत होते हैं।

मसल्स की कसरत

साइक्लिंग उन लोगों के लिए कसरत का श्रेष्ठ विकल्प है, जो किसी चोट से रिकवर हो रहे हों। क्रॉस टे्रनिंग विकल्प ढूंढ़ रहे हों या 85 की उम्र में मैराथन में भाग लेने के लिए अपने घुटनों को मजबूत बनाए रखने की कोशिश कर रहे हों। दौडऩे या जिम में एक्सरसाइज की तुलना में टांगों, एडिय़ों, घुटनों और पैरों के लिए साइक्लिंग अधिक आसान एवं फायदेमंद है। इससे दिल शरीर के विभिन्न जोड़ों पर अधिक दबाव डाले बगैर पंपिंग करता है। अधिक समय तक दौडऩे से शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। वहीं दूसरी तरफ साइक्लिंग का कम प्रभाव है और यह घुटनों पर अधिक दबाव डाले बगैर टांगों की मांसपेशियों की कसरत है। इसके अलावा साइक्लिंग जोश बढ़ाती है।

हम में से ज्यादातर लोग साइक्लिंग के वक्त अपनी क्षमता से अधिक आगे बढ़ जाते हैं, क्योंकि यह बेहद आनंददायक है। इसके अलावा यह काफी कैलोरी भी अवशोषित करती है और उन लोगों के लिए फायदेमंद है, जो अपना अतिरिक्त वजन घटाना चाहते हैं।

सस्ता व्यायाम

विशेष स्वास्थ्य फायदों के अलावा साइक्लिंग जिम की तुलना में आप के मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी कई मानों में लाभदायक हो सकती है। बाहर की ताजा हवा लेना, सुबह के समय सूर्य की गरमी को महसूस करना या शाम को त्वचा को ठंडी हवा आदि ऐसे लाभ हैं, जो जिम की कसरत में हासिल नहीं हो सकते। साइक्लिंग तनाव कम कर सकती है क्योंकि आप बाहर घूमते वक्त प्राकृतिक तौर पर ताजा हवा लेते हैं। यह क्रिया दिमाग के उस हिस्से को नियंत्रित करती है, जो चिंता और आशंका से जुड़ा होता है और उस हिस्से को सक्रिय करती है, जो सुंदरता, गति से संबद्ध है। इन स्वास्थ्य फायदों के अलावा साइक्लिंग आप का काफी समय बचाने में भी मददगार है। यह सर्वोच्च क्रम का मल्टीटास्किंग है। आप काम पर जाने के लिए साइकिल का चयन कर सकते हैं और फिटनैस व्यवस्था पर किसी तरह का दबाव पडऩे की चिंता से भी मुक्त रह सकते हैं।

सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे
See More Related News

Rajputana News e-paper daily digital edition, published and circulated from Jaipur Rajasthan

Follow us: Facebook
Follow us: Twitter
Youtube