China elderly population problem | चीन में नई चाइल्ड पॉलिसी को मंजूरी, रिपोर्ट देखें

 China elderly population problem | चीन में नई चाइल्ड पॉलिसी को मंजूरी, रिपोर्ट देखें 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ( China ) की रिपोर्ट के अनुसार चीन ने सोमवार को घोषणा की है कि प्रत्येक माता-पिता को तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति होगी।

China elderly population problem | चीन में नई चाइल्ड पॉलिसी को मंजूरी, रिपोर्ट देखें


चीन ने हाल ही में सामने आए उन आंकड़ों के बाद इस नीतिगत बदलाव की घोषणा की है, जिसमें बच्चों के जन्म में नाटकीय गिरावट देखी गई थी।

High cost of raising children


चीन ने अपनी दशकों पुरानी एक बच्चे की नीति को समाप्त कर दिया था। 

चीन ने जनसंख्या विस्फोट को रोकने के लिए यह नीति लागू किया था। 

दो बच्चों की सीमा के साथ चीन में बच्चों के जन्म में निरंतर वृद्धि नहीं हुई। 

चीन में बच्चों की परवरिश की हाई कॉस्ट ने कई जोड़ों ने इसे नहीं अपनाया।

The China census revealed


चीन की एक दशक में एक बार की जनगणना से पता चला है कि 1950 के दशक के बाद से पिछले दशक के दौरान जनसंख्या सबसे धीमी दर से बढ़ी है। 

अकेले 2020 में महिलाओं ने औसत रूप से 1.3 बच्चों को जन्म दिया है। 

Slow population growth in China

चीन की आबादी 2019 की तुलना में 0.53 प्रतिशत बढ़कर 1.41178 अरब हो गई है हालांकि जनसंख्या वृद्धि की यह दर सबसे धीमी है। 

2019 में आबादी 1.4 अरब थी। चीन का सबसे ज्यादा आबादी वाले देश का दर्जा अब भी बरकरार है हालांकि अधिकारिक अनुमान के मुताबिक अगले साल तक इस संख्या में गिरावट आ सकती है 

और जिससे श्रमिकों की कमी हो सकती है और उपभोग स्तर में भी गिरावट आ सकती है 

ऐसे में भविष्य में देश के Economic scenario आर्थिक परिदृश्य पर भी इसका असर होगा।

Seventh National Census of China


चीन की सरकार द्वारा हाल ही में जारी सातवीं राष्ट्रीय जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक सभी 31 प्रांतों, स्वायत्त क्षेत्रों और नगरपालिकाओं को मिलाकर,

चीन की जनसंख्या 1.41178 अरब हो गई है जो 2010 के आंकड़ों के मुकाबले 5.8 प्रतिशत या 7.2 करोड़ ज्यादा है। इन आंकड़ों में हांगकांग और मकाउ को शामिल नहीं किया गया है।  

चीन 1990 के दशक से हर 10 साल पर राष्ट्रीय जनगणना कराता है। 

नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक देश की जनसंख्या 2010 के मुकाबले 5.38 प्रतिशत या 7.206 करोड़ बढ़कर 1.41178 अरब हो गई है।

According to the report of the United Nations

चीन में जहां आबादी में कमी आएगी वहीं 2019 में 1.366 अरब की आबादी वाले भारत के 2027 तक दुनिया के सबसे ज्यादा आबादी वाले देश के तौर पर चीन से आगे निकल जाने का अनुमान है। 

एनबीएस द्वारा जारी नई जनगणना के आंकड़ों से पता चलता है कि चीन जिस संकट का सामना कर रहा था, 

उसके और गहराने की उम्मीद है, क्योंकि देश में 60 वर्ष से अधिक लोगों की आबादी बढ़कर 26.4 करोड़ हो गई है

जो पिछले साल के मुकाबले 18.7 प्रतिशत ज्यादा है। एनबीएस ने एक बयान में कहा कि जनसंख्या औसत आयु बढ़ने से दीर्घकालिक संतुलित विकास पर दबाव बढ़ेगा।

चीन में कामकाजी आबादी या 16 से 59 आयुवर्ग के लोग 88 करोड़ हैं।

Follow us: Facebook
Follow us: Twitter
Youtube

सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे