Breaking News

11 दिनों के बाद कोरोना मरीज दूसरों के लिए खतरनाक नहीं: एनसीआईडी सिंगापुर

11 दिनों के बाद कोरोना मरीज दूसरों के लिए खतरनाक नहीं: एनसीआईडी सिंगापुर

11 दिनों के बाद कोरोना मरीज दूसरों के लिए खतरनाक नहीं: एनसीआईडी सिंगापुर


सिंगापुर स्थित राष्ट्रीय संक्रामक रोग केंद्र (एनसीआईडी) के अध्ययन में यह दावा किया गया है कि कोरोना की

जद में आने के 11 दिन बाद ज्यादातर मरीजों से दूसरों को इसके संक्रमण फैलने का खतरा न के बराबर होता है।

जो कोरोना संक्रमित हैं


शोधकर्ताओं ने अस्तपालों में भर्ती 73 ऐसे मरीजों पर ये शोध किया है जो कोरोना संक्रमित हैं।


सिंगापुर के अखबार स्ट्रेट टाइम्स की खबर के मुताबिक शोध में ये बात सामने निकलकर आई है कि लक्षण उभरने के सात दिन तक तो मरीज में वायरस की संख्या बढऩे और हवा में उसका प्रसार होने की आशंका अधिक रहती है, 

लेकिन आठवें से दसवें दिन के भीतर यह कमजोर पडऩे लगती है और 11वां दिन बीतते-बीतते पूरी तरह नष्ट हो जाती है। 

आपको बता दें कि सिंगापुर में नियमानुसार किसी संक्रमित मरीज को 24 घंटे के अंतराल में दो स्वैब जांच के नेगेटिव आने के बाद छुट्टी दे दी जाती है।


एनसीआईडी की जांच रिपोर्ट


एनसीआईडी की मानें तो स्वैब जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आने का ये मतलब नहीं कि संक्रमित दूसरों में वायरस के प्रसार का सबब बन सकता है।


दरअसल, स्वैब जांच सार्स-कोव-2 के जीनोम की मौजूदगी का तो पता लगाती है, 


लेकिन इससे इस बात का पता नहीं चलता है कि संक्रमित मरीज में इस वायरस के कितने अंश बचे हुए हैं। 

वहीं इसमें ये भी पता नहीं चलता है कि यदि संक्रमितों में इस वायरस के अंश हैं तो वो क्या इसको आगे प्रसार करने की क्षमता रखते हैं या नहीं।

11वां दिन बीतते-बीतते पूरी तरह नष्ट हो जाती है वायरस संक्रमित शक्ति 


एनसीआईडी के डायरेक्टर लियो यी का कहना है कि संक्रमण के लक्षण उभरने के 11 दिनों के बाद मरीज दूसरों के लिए खतरनाक नहीं होता है। 

कोरोना संक्रमितों के लिए


माना जा रहा है कि इस शोध के बाद फिलहाल सिंगापुर में कोरोना संक्रमितों के लिए बनाए गए नियम को बदला जा सकता है।

11 दिनों के बाद कोरोना मरीज दूसरों के लिए खतरनाक नहीं: एनसीआईडी सिंगापुर

सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे
See More Related News

Corona patient not dangerous to others after 11 days