Breaking News

राजस्थान में तकनीकी शिक्षा नीति पर विचार

राजस्थान में तकनीकी शिक्षा नीति पर विचार - तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने बुधवार को विधानसभा में बताया कि सरकार तकनीकी शिक्षा नीति लाने पर विचार कर रही है। इसकी प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

इसके तहत सभी तकनीकी संस्थानों के संबंध में नीति तैयार की जाएगी।

rajasthan vidhansabha


गर्ग ने प्रश्नकाल के दौरान पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए बताया कि राज्य में कोई भी तकनीकी शिक्षण संस्थान खोला जाता है तो तीन स्तर पर निरीक्षण की कार्रवाई होती है।

पहली सरकार के स्तर पर निदेशालय से एनओसी जारी की जाती है। दूसरा एआईसीटीई की ओर फाइनल अप्रूवल किया जाता है व तीसरा विवि से संबद्धता प्राप्त करने के लिए निरीक्षण किया जाता है।

सरकार के स्तर पर कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है कि तकनीकी शिक्षा संस्थानों में निदेशालय स्तर पर एनओएसी में  शर्तों का उल्लंघन किया गया हो।

अग्निशमन वाहन पंचायत स्तर पर संभव नहीं

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल  मेघवाल ने कहा कि  प्रदेश में ब्लॉक स्तर पर अग्निशमन वाहन उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि बजट में 100 अग्निशमन वाहन उपलब्ध कराने की घोषणा की गई है।

वन भूमि से हटेंगे अतिक्रमण

वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई ने कहा कि वन भूमि पर किसी को अतिक्रमण नहीं करने दिया जाएगा तथा अतिक्रमियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अलवर के कठूमर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम मैथाना में वन भूमि पर 90 किसानों ने कब्जा कर रखा था, जिसमें से 54 कब्जों का निस्तारण कर लिया गया है तथा शेष पर कार्रवाई जारी है।

मिलेंगे नए अध्यापक

संस्कृत शिक्षा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग ने कहा है कि वरिष्ठ अध्यापक के विभिन्न विषयों के 690 पदों के लिए आरपीएसी की परीक्षा हो चुकी है।

उन्होंने बताया कि वरिष्ठ अध्यापक के 177 पदों व अध्यापक के 226 पदों पर भर्ती की कार्रवाई प्रस्तावित है।

पद के विरुद्ध लगे चिकित्सक हटेंगे

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग में पद के विरुद्ध लगे हुए चिकित्सकों के संबंध में नीतिगत निर्णय लिया जाएगा।

साथ ही, ऐसे स्थानों की समीक्षा की जाएगी, जहां चिकित्सक या तो आवश्यकता से अधिक लगे हुए हैं या फिर कम लगे हुए हैं। उन्होंने बताया कि 737 चिकित्सकों की नई भर्ती के लिए वित्तीय स्वीकृति मिली है।

उन्होंने बताया कि पैरामेडिकल संवर्ग के 15 हजार पदों पर भर्ती प्रक्रियाधीन है। भर्ती प्रक्रिया पूरी होने के उपरांत आदिवासी क्षेत्र में खाली पैरामेडिकल के रिक्त पदों को भी भरने की कार्रवाई की जाएगी।

Follow us: Facebook
Follow us: Twitter
Youtube

Post Business Listing - for all around India