पैन कार्ड को आधार के साथ लिंक करने के विभिन्न तरीके

मनमोहन सिंह के नेतृत्व में जब यूपीए सरकार ने आधार को शुरू करने के सन्दर्भ में योजना बनाई थी तब किसी ने भी इसे अधिक गंभीरता से नहीं लिया था परन्तु जब सरकार ने इसको कुछ योजनाओं में अनिवार्य किया था, तब यह प्रतीत होने लग गया था कि भविष्य में यह सरकार की सभी योजनाओं में लागू हो कर सरकार के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकता है। बदलते वक्त के साथ-साथ सभी प्रकार के डाटा डिजिटल फॉर्म में तब्दील होते जा रहे हैं तथा भ्रष्टाचार को रोकने के लिए धीरे-धीरे आधार सभी जगह अनिवार्य बनता जा रहा है।
 
ways to link pan card with aadhaar

आधार की बढ़ती हुई उपयोगिता को देखते हुए वर्तमान सरकार ने सभी नागरिकों के लिए पैन नंबर को आधार नंबर से लिंक करना अनिवार्य कर दिया है। देश के सभी नागरिकों को अपने पैन नंबर को आधार नंबर से जोड़ना अनिवार्य है फिर चाहे वे इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं या नहीं।

पैन को आधार से लिंक करने की आखिरी तारीख 31 अगस्त 2017 है। हमें इस तय तारीख से पहले-पहले अपने पैन को आधार नंबर से अवश्य जोड़ लेना चाहिए वर्ना हम अपनी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल नहीं कर पाएँगे। अगर हम दिसम्बर 2017 के अंत तक भी अपने पैन को आधार से लिंक नहीं करते हैं तो उसके पश्चात हमारा पैन कार्ड रद्द होकर अमान्य हो जाएगा।

उपरोक्त परेशानियों से बचने के लिए हमें तय तिथि से पहले ही अपने पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कर लेना चाहिए। इस लेख के माध्यम से हम पैन को आधार से लिंक करने के लिए विभिन्न सरल तरीके बताएँगे जिन्हें समझकर आप स्वयं बड़ी आसानी से अपने पैन को आधार से जोड़ सकते हैं।

सर्व प्रथम तरीका उन व्यक्तियों के लिए है जिन्होंने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ई-फाइलिंग वेबसाइट पर अपना अकाउंट बना रखा है अर्थात वहाँ पर रजिस्टर्ड हैं। यदि आप पहले से इनकम टैक्स रिटर्न यानी आईटीआर भरते हैं तब इस बात की प्रबल सम्भावना है कि आप का पैन नंबर स्वतः ही आधार से लिंक हो गया हो। यह कार्य इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा संभावित रूप से कर दिया जाना चाहिए। आपका पैन आपके आधार से जुड़ा हुआ है या नहीं यह आप स्वयं इनकम टैक्स ई-फाइलिंग वेबसाइट पर जाकर जाँच सकते हैं।
अपने पैन तथा आधार के लिंकिंग स्टेटस को चेक करने के लिए सबसे पहले आपको इनकम टैक्स ई-फाइलिंग वेबसाइट (www.incometaxindiaefiling.gov.in) पर जाकर “लॉग इन हियर” बटन पर क्लिक करना होगा या फिर आप सीधे इस लिंक (https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/e-Filing/UserLogin/LoginHome.html) पर क्लिक करके लॉग इन पेज पर जा सकते हैं। लॉग इन करने के लिए आपको यूजर आईडी जो कि सामान्यतः पैन नंबर ही होता है, पासवर्ड तथा जन्म दिनांक की आवश्यकता पड़ती है। सफलतापूर्वक लॉग इन करने के पश्चात आपको “प्रोफाइल सेटिंग” मेनू पर क्लिक करके सबसे अंतिम विकल्प “लिंक आधार” को सेलेक्ट करके क्लिक करना होगा। यदि आपका आधार पहले से ही पैन के साथ जुड़ा हुआ है तो आपको स्क्रीन पर आपके आधार के पहले से ही पैन के साथ जुड़े होने सम्बन्धी मैसेज दिखाई देगा।

यदि आपका पैन आपके आधार के साथ नहीं जुड़ा हुआ है तो फिर उस स्थिति में आपको स्क्रीन पर एक फॉर्म दिखाई देगा जिसमे आपको अपना नाम, जन्म दिनांक, जेंडर तथा आधार नंबर आदि की जानकारियाँ भरनी होगी। ये सभी जानकारियाँ भरने के पश्चात फॉर्म को सबमिट कर देना है। सबमिट करने के पश्चात स्क्रीन पर प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूर्ण होने का मैसेज दिखाई देगा।

पैन को आधार से लिंक करने का दूसरा तरीका उन व्यक्तियों के लिए है जो इनकम टैक्स ई-फाइलिंग वेबसाइट पर रजिस्टर्ड नहीं है अर्थात इन्होने इस वेबसाइट पर अपना अकाउंट नहीं बना रखा है। सर्वप्रथम  आपको इनकम टैक्स ई-फाइलिंग वेबसाइट (www.incometaxindiaefiling.gov.in) के होम पेज पर जाकर सर्विसेज कॉलम में लाल अक्षरों में प्रदर्शित “लिंक आधार” तथा उसके आगे न्यू लिखे हुए बटन को क्लिक करना होगा। नए पेज में एक फॉर्म खुलेगा जिसमे आपको अपने पैन, आधार नंबर, नाम आदि से सम्बंधित विवरण भरकर “लिंक आधार” के बटन पर क्लिक करके सबमिट करना होगा। सबमिट करने के पश्चात स्क्रीन पर पैन का सफलतापूर्वक आधार से लिंक होने का मैसेज दिखाई देगा जिसका मतलब यह है कि हमने अपने पैन को आधार से सफलतापूर्वक जोड़ लिया है।

पैन को आधार से लिंक करने का तीसरा तरीका उन व्यक्तियों के लिए है जो ऑनलाइन प्रक्रिया से बचना चाहते हैं। ऐसे लोग मात्र एक एसएमएस द्वारा अपने पैन को आधार से लिंक कर सकते हैं। एसएमएस द्वारा पैन को आधार से लिंक करने के लिए एक विशिष्ट फॉर्मेट (UIDPAN<12 Digit Aadhaar><10 Digit PAN>)  में एसएमएस टाइप करके उसे 567678 या 56161 पर भेजना होगा। आपके मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर द्वारा तय दरों के अनुसार मैसेज का चार्ज लिया जा सकता है। एसएमएस द्वारा पैन को आधार से लिंक करने की सम्पूर्ण जिम्मेदारी पैन सर्विस प्रोवाइडर्स जैसे एनएसडीएल या यूटीआई द्वारा निभाई जाती है।

ऐसे लोग जिनके पैन तथा आधार की डिटेल्स में भिन्नता होती है उनके पैन को आधार से लिंक करने के लिए यह चौथा तथा अंतिम तरीका काम में लिया जाता है। इसके लिए आपको पैन सर्विस प्रोवाइडर्स एनएसडीएल या यूटीआई के सर्विस सेन्टर में जाना होगा। सर्विस सेन्टर में आपको एक फॉर्म (अनेक्सर-I)  भरना होगा तथा उसे पैन तथा आधार कार्ड जैसे सपोर्टिंग डाक्यूमेंट्स के साथ जमा करवाना होगा। यह निशुल्क सर्विस नहीं है। इस सर्विस का चार्ज इसकी प्रकृति पर निर्भर करता है। यदि आपके पैन तथा आधार में ज्यादा भिन्नता पाई जाती है तो सर्विस सेन्टर द्वारा आपका बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन भी करवाया जा सकता है।

पैन कार्ड को आधार के साथ लिंक करने के विभिन्न तरीके
Different ways to link pan card with aadhaar